वसीम रिजवी ने किया दावा, शिया वक्फ संपत्तियों पर कट्टरपंथी सुन्नी मुस्लिम किरायेदारों का कब्जा

 वसीम रिजवी ने किया दावा, शिया वक्फ संपत्तियों पर कट्टरपंथी सुन्नी मुस्लिम किरायेदारों का कब्जा

उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से शिया वक्फ बोर्ड ने सुन्नी समुदाय पर तीखा हमला बोला है. बोर्ड ने सुन्नी समुदाय पर अपनी जमीनों के गलत इस्तेमाल का आरोप लगाया है. इसके साथ ही अब बोर्ड वक्फ की संपत्ति के सुन्नी किराएदारों के साथ हुए सभी तरह के अनुबंध को खत्म करने की तैयारी में है. साथ ही बोर्ड ने कमिटियों को जारी एक नोटिस में साफ आदेश दिया है कि आगे से वक्फ बोर्ड की कोई भी जमीन सुन्नी समुदाय को न दी जाए.

सुन्नी समुदाय के खिलाफविरुद्ध} इस कड़े कदम पर प्रतिक्रिया देते हुए बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा, 'हमें यह जानकारी मिली है कि सुन्नी समुदाय के लोग बोर्ड की जमीनों का दुरुपयोग कर रहे हैं. यह हमारी जमीन है, ऐसे में इसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी हमारी है. बोर्ड ने जारी नोटिस में लिखा है, 'बोर्ड की संपत्तियों पर काबिज ऐसे मुसलमान जो शिया मुसलमानों की आस्था का सम्मान नहीं करते, भारत के संविधान में विश्वास नहीं करते और जो बिना कारण जेहाद में आस्था रखते हैं. उनके कारण देश में आपसी भाईचारे में खतरा पैदा हो रहा है. बोर्ड ने कहा है कि ऐसे सुन्नी मुसलमान जो शिया वक्फ की संपत्ति के किराएदार हैं उनकी किराएदारी तत्काल प्रभाव से निरस्त की जाए.

नोटिस में यह साफ निर्देश दिया गया है कि शिया वक्फ संपत्ति पर ऐसे सुन्नी मुसलमान जो समाज, वक्फ और राष्ट्र के लिए खतरा हैं, उनकी किराएदारी वक्फ संपत्ति पर न की जाए. साथ ही 3 माह के अंदर बोर्ड ने ऐसे सभी किराएदारों की सूची भी मांगी है. बोर्ड ने साफ किया है कि ऐसा नहीं करने पर प्रबंध कमिटी के खिलाफ कार्रवाई होगी.

loading...