सुब्रमण्यम स्वामी ने कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज बयान पर दिया जवाब, कहा- भेज देते हैं पाकिस्तान

 सुब्रमण्यम स्वामी ने सैफुद्दीन सोज को दिया करारा जवाब, कहा- आपको पाकिस्तान जाने का टिकट दिया देता हूँ

जम्मू कश्मीर में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सैफुद्दीन सोज ने कहा है कि कश्मीरी जनता किसी और देश के साथ रहने की बजाय आजादी चाहती है. उन्होंने पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के एक बयान की याद दिलाते हुए कहा कि अगर कश्मीरी लोगों को विवेक से निर्णय लेने को कहा जाए तो वे आजाद रहना पसंद करेंगे. मुशर्रफ के बयान का समर्थन करने के बाद विपक्षी पार्टियां उनके विरुद्ध आक्रामक हो गई हैं. वरिष्ठ भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि मुशर्रफ का समर्थन करने वालों को पाकिस्तान भेजेंगे.

एक न्यूज चैनल से बातचीत में सोज ने कहा कि करीब एक दशक पहले परवेज मुशर्रफ का बयान आज भी कई कई मायनों में फिट बैठता है. यूपीए सरकार में पर्यावरण और वन मंत्री रह चुके सोज ने यह भी कहा कि 1953 के बाद से देश में बनी हर सरकार ने कश्मीर के मामले में गलतियां की हैं. उन्होंने नरेंद्र मोदी सरकार को सलाह देते हुए कहा कि अगर वह कश्मीर मुद्दे को सुलझाना चाहती है तो ऐसा माहौल बनाना होगा जिसमें कश्मीर के लोग बेहतर और सुरक्षित महसूस करें.

दरअसल, सोज ने अपनी पुस्तक ‘कश्मीर: ग्लिम्पसेज ऑफ हिस्ट्री एंड द स्टोरी ऑफ स्ट्रगल’ में परवेज मुशर्रफ के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर वोटिंग की स्थितियां होती हैं तो कश्मीर के लोग भारत या पाक के साथ जाने की अपेक्षा अकेले और आजाद रहना पसंद करेंगे. हालांकि, उन्होंने कहा है कि किताब में जो बातें मैंने कहीं, वो मेरी निजी राय है. पार्टी से इसका कोई मतलब नहीं है.

सोज के इस बयान का विपक्षी पार्टियों ने पुरजोर विरोध किया है. भाजपा के सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि कैबिनेट मंत्री रहते हुए सोज ने सरकार का भरपूर फायदा उठाया. उनकी बेटी का जेकेएलएफ ने अपहरण किया था, इसमें भी सरकार ने उनकी मदद की, लेकिन ऐसे लोगों की मदद करने का कोई मतलब नहीं है. जो भारत में रहना चाहता है, उसे देश के संविधान का पालन करना होगा. मुशर्रफ को पसंद करने वालों को पाकिस्तान भेजने के लिए हम टिकट देंगे.

वहीं, शिवसेना नेता मनीषा कयंडे ने भी कहा है कि सोज को पाकिस्तान और मुशर्रफ से इतना प्यार है तो उन्हें पाकिस्तान ही चले जाना चाहिए और उसका नौकर बन जाना चाहिए. उन्होंने कांग्रेस से भी सोज के बयान पर रुख स्पष्ट करने की मांग की है.
बता दें कि सोज अक्सर अपने विवादित बयानों के चलते चर्चा में रहते हैं. जुलाई, 2017 में उन्होंने कहा था कि अगर उनका वश चलता तो वे आतंकर बुरहान वानी को मरने नहीं देते, बल्कि उससे बातचीत कर समस्या का समाधान निकालने की कोशिश करते.

loading...