•  बिहार के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने पूर्णिया पहुंचे पीएम मोदी

    बिहार के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने पूर्णिया पहुंचे पीएम मोदी

    शनिवार को पीएम नरेंद्र मोदी बिहार के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने के लिए रवाना हो गए. उनके साथ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी हैं. आज सुबह 10 बजे प्रधानमंत्री मोदी वायुसेना के विमान से पूर्णिया पहुंचे जहां मुख्यमंत्री नीतीश और डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने उनका स्वागत किया. इसके बाद वो बिहार के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने निकल गए.

  •  सुशील मोदी बोले-लालू जी 27 तारीख वाली रैली को टाल दीजिए, लालू ने किया इंकार

    सुशील मोदी बोले-लालू जी 27 तारीख वाली रैली को टाल दीजिए, लालू ने किया इंकार

    बीजेपी ने बिहार में बाढ़ के मद्देनजर पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद से 27 अगस्त की आरजेडी की रैली को स्थगित करने का आग्रह किया है लेकिन आरजेडी प्रमुख ने इस मांग को खारिज कर दिया है. बीजेपी नेता और उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की इस अपील को आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद ने खारिज करते हुए कहा कि वे यह पाठ पढ़ाने के बजाए बताएं कि तटबंध कैसे टूटे और बाढ़ पीड़ितों के लिए राहत और बचाव कार्य चलाने में सरकार कथित तौर पर विफल साबित क्यों हुई. यह भी पढ़े: बिहार में बाढ़ ने मचाई तबाही, सड़क के धंसने से तीन लोगों की हुई मौत

  • बिहार में बाढ़ ने मचाई तबाही, सड़क के धंसने से तीन लोगों की हुई मौत

    बिहार में बाढ़ ने मचाई तबाही, सड़क के धंसने से तीन लोगों की हुई मौत

    (अररिया) बिहार. बिहार में नदियों ने भयानक रूप ले लिया है. सभी नदियाँ ख़तरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. हालात इतने बेकाबू हो गये हैं कि पानी के कारण सड़कों पर भी कटाव शुरू हो गया है. बिहार का अररिया जिला बाढ़ से पूरा खत्म हो गया है. भारी बारिश से उफनाई नदियां तटबंध तोड़ सैकड़ों ग्राम को लील चुकी हैं. प्लेटफॉर्म पर पानी भर गया है तो कई जगह रेल की पटरियों के नीचे से मिट्टी बह गई है. यह भी पढ़े: बिहार: नदियों का स्तर बढ़ा, अब तक जा चुकी है 153 मौतें

  •  उत्तरी बिहार में नदियों के स्तर बढ़ने से आई बाढ़, 153 लोग मरे

    उत्तरी बिहार में नदियों के स्तर बढ़ने से आई बाढ़, 153 लोग मरे

    नेपाल में वर्षा की बढ़ती तेज़ी का परिणाम नॉर्थ बिहार की नदियां एक बार फिर अपने जलस्तर से उचाई पर हैं। नौ बड़ी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। ललबकिया शुक्रवार को खतरे के निशान से नीचे उतरी तो शाम होते-होते पुनपुन खतरे के निशान को पार कर गई। पुनपुन के अलावा बागमती, कमला बलान, अधवारा, खिरोई, महानंदा, घाघरा, बूढ़ी गंडक और कोसी नदी लगातार लाल निशान से ऊपर बह रही है। डिजास्टर मैनेजमेंट डिपार्टमेंट के अनुसार बाढ़ में अब तक 153 लोग जान गंवा चुके हैं। कुल 17 जिलों के 1.8 करोड़ लोग इसके शिकार बन चुके है।यह भी पढ़े:बिहार :15 जिले में आई बाढ़ 93 लाख लोग फंसे, अब तक 119 की मौत

  •  नदियों का वाटरलेवल बढ़ने के कारण बिहार में आई बाढ़

    नदियों का वाटरलेवल बढ़ने के कारण बिहार में आई बाढ़

    अभी तक बिहार में बाढ़ का कहर जारी है। इस बाढ़ के मुताबिक, स्टेट के 15 जिलों के 93 लाख लोग बाढ़ की रहस्य में हैं. पिछले 24 घंटे में 47 लोगों की मौत की खबर के साथ अभी तक मरने वालों की तादाद 119 पहुंच गई है. गुरुवार की सुबह नदियों के बढ़ने पर ब्रेक लगा, लेकिन शाम होते-होते इनके पानीस्तर में बढ़ोतरी हुई. आठ बड़ी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं
    नदियों के वाटरलेवल में बढ़ोतरी से सीमांचल और गोपालगंज के नए इलाकों में बाढ़ का वाटर घुस गया है। जहां पहले से पानी है वहां के हालात भी गंभीर बने हुए हैं. 
    सीएम नीतीश कुमार ने गुरुवार को गोपालगंज, बगहा, बेतिया, रक्सौल व मोतिहारी के बाढ़ग्रस्त इलाकों का हवाई सर्वे किया. सीतामढ़ी नानपुर थाना इलाके के बहेरा लचका पर गुरुवार की शाम लोगों से भरी एक नाव पलट गई. नाव पर 20 लोग सवार थे.15 लोग तैरकर बाहर आ गए जबकि, पांच अभी भी लापता हैं.

Page 1 of 4