• मीडिया को देख फरार हुए RBI गवर्नर उर्जित पटेल

    मीडिया को देख फरार हुए RBI गवर्नर उर्जित पटेल

    बुधवार को 8वें वाइब्रेंट गुजरात सम्मेलन में हिस्सा लेने महात्मा मंदिर पहुंचे रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल पत्रकारों के सवालों से बचकर भाग निकले. खबर है कि पत्रकार नोटबंदी के मुद्दे पर उर्जित से सवाल पूंछने वाले थे, लेकिन उर्जित शायद उनके सवालों का जवाब नहीं देना चाहते थे, इसी वजह ऐ वह वहां से भाग निकले.

  • RBI: नहीं घटेगी आपकी EMI, रेपो रेट 6.25 फीसदी पर बरकरार

    RBI: नहीं घटेगी आपकी EMI, रेपो रेट 6.25 फीसदी पर बरकरार

    नोटबंदी के बाद आज पहली बार रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने क्रेडिट पॉलिसी का ऐलान किया। नए नीतिगत फैसलों में देश पर विकास दर के कम होने का खतरा मंडराने लगा है। इसके अलावा आरबीआई ने रेप रेट में भी कोई बदलाव नहीं किया गया है। इसका मतलब साफ है कि आपकी ईएमआई नहीं घटेगी।

  • आरबीआई गवर्नर को मिलती है 2 लाख रुपए महीना सैलरी, सपोर्टिंग स्टाफ नहीं दिया गया

    आरबीआई गवर्नर को मिलती है 2 लाख रुपए महीना सैलरी, सपोर्टिंग स्टाफ नहीं दिया गया

    भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल का वेतन दो लाख रुपये से कुछ ही ज्यादा है और उन्हें घर पर कोई सहायक कर्मचारी भी नहीं दिए गए हैं। यह जानकारी केंद्रीय बैंक ने सूचना के अधिकार के तहत पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में दी।

  • आंध्र प्रदेश के CM ने उर्जित पटेल को मैसेज कर मंगवाई सैलरी, 2,420 करोड़ रुपये 2 चार्टर्ड प्लेन में आये, सैलरी देने के लिए भी नहीं थे पैसे

    आंध्र प्रदेश के CM ने उर्जित पटेल को मैसेज कर मंगवाई सैलरी, 2,420 करोड़ रुपये 2 चार्टर्ड प्लेन में आये, सैलरी देने के लिए भी नहीं थे पैसे

    आंध्र प्रदेश में लोगों को सैलरी देने के लिए नहीं थे पैसे. इससे सीएम चंद्रबाबू नायडू काफी नाराज़ हो गए और आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल को अर्जेंट मैसेज भेजा. मैसेज करने के बाद अगले ही दिन आरबीआई ने दो चार्टर्ड प्लेन से 2,420 करोड़ रुपए राज्य में भेज दिए.
     
    आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू गुरुवार को नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली हाई पावर्ड कमेटी की मीटिंग में शामिल हुए थे. इस बैठक का मकसद देश के सभी राज्यों को डिजिटल इकोनॉमी की तरफ ले जाना और कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देना था. मीटिंग में चंद्रबाबू कुछ बेचैन थे. बैठक के कुछ देर बाद ही उन्होंने आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल को अर्जेंट मैसेज भेजकर मदद मांगी. 

  • 23 दिन बाद भी कम नहीं हुईं बैंक के बाहर लाइन, नोट बंदी के बाद मिली पहली तनख्वाह, लेकिन बैंक में पैसा नहीं

    23 दिन बाद भी कम नहीं हुईं बैंक के बाहर लाइन, नोट बंदी के बाद मिली पहली तनख्वाह, लेकिन बैंक में पैसा नहीं

    आज 1 दिसम्बर है और नोट को बंद हुए 23वां दिन. महीने की पहली तारीख यानि सैलरी डे. लेकिन इस बार लग रहा है सैलरी डे पर सैलरी नहीं मिल सकेगी. महीने की पहली तारीख शुरू होते ही वेतनभोगियों को कैश उपलब्ध कराने के लिहाज से सरकार के लिए अगले 10 दिन चुनौतीपूर्ण होंगे. नोटबंदी के 22वें दिन भी बैंकों और एटीएम में कतारें कम नहीं हुई हैं. 

Page 1 of 2