•  ISIS में भर्ती हुए भारत के सुसाइड बॉम्बर ने ली सीरिया में कई लोगों की जान, किया दावा

    ISIS में भर्ती हुए भारत के सुसाइड बॉम्बर ने ली सीरिया में कई लोगों की जान, किया दावा

    आईएसआईएस का दावा है कि भारत के एक सुसाइड बॉम्बर (फिदायीन हमलावर) अबु यूसुफ अल-हिंदी ने सीरिया में कई लोगों को मार दिया। ये हमला सीरिया के रक्का शहर में किया गया था। आईएसआईएस ने रक्का को ही अपनी राजधानी बना रखा है। 

  • 'सीरिया में रक्तपात रोकने के लिए सभी 'सभ्य देश' आएं साथ' : डोनाल्ड ट्रंप

    'सीरिया में रक्तपात रोकने के लिए सभी 'सभ्य देश' आएं साथ' : डोनाल्ड ट्रंप

    गुरुवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि सीरिया में रक्तपात रोकने के लिए ‘सभी सभ्य राष्ट्र’ को साथ आना चाहिए. 4 अप्रैल को हुए केमिकल हमले के बाद अमेरिका ने सीरिया पर एक के बाद एक 50 क्रूज मिसाइलें दागी हैं.

  • लगातार 2 आत्मघाती धमाकों से दहला सीरिया, 42 की मौत

    लगातार 2 आत्मघाती धमाकों से दहला सीरिया, 42 की मौत

    सीरिया से बड़ी खबर सामने आ रही है। शनिवार को आतंकियों ने सीरिया के पश्चिमी शहर होम्स में सुरक्षा बलों पर बड़ा हमला बोला है। हमले में कम से कम 42 लोगों के मरने की खबर है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मारे गए लोगों में सुरक्षा बलों के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हैं। हालांकि अभी यह नहीं कहा जा सकता कि हमलावर आईएस के आतंकी थे या किसी अन्य आतंकी संगठन से संपर्क रखते थे। हमले में कई लोगों के घायल होने की भी खबर है।

  • सीरिया : अलेप्पो पर सेना ने किया कब्ज़ा, मारे गए लाखों लोग

    सीरिया : अलेप्पो पर सेना ने किया कब्ज़ा, मारे गए लाखों लोग

    सीरिया के अलेप्पो पर वहां की सेना ने 4 साल बाद कब्जा कर लिया है. कई महीनों से सरकार और मिलिशिया के बीच चल रही गहमा-गहमी निकासी समझौते के बाद खत्म हो गई है. वहीं, अलेप्पो पर सेना का कब्जा पिछले 6 साल के विद्रोही आंदोलन के लिए बड़ा खतरा बताया जा रहा है.

  • अलेप्पो में तबाही, रूस-सीरिया ने गिराए बम, दर्जनों बच्चों समेत 91 लोगों की मौत

    अलेप्पो में तबाही, रूस-सीरिया ने गिराए बम, दर्जनों बच्चों समेत 91 लोगों की मौत

    शुक्रवार को सीरिया में विद्रोहियों के कब्जे वाले पूर्वी अलेप्पो में बहुत बड़ा हमला हो गया. हमला इतना जोरदार था कि हमले में 91 लोगों की मौत हो गई. मरने वालों में ज्यादातर आम नागरिक और बच्चे हैं. हमले के वक्त का मंजर इतना दर्दनाक था कि सोचने में ही दिल बैठ जाता है. चारों तरफ से चींखने की आवाजे आ रही थी. वहां का वातावरण खूनिया हो गया था. सभी जगह लाशों के ढेर. एक कार्यकर्ता का कहना है कि मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है, क्योंकि अभी भी कई लोग मलबे में दबे हैं. 

Page 1 of 2