•  SC ने खारिज की प्रशांत भूषण की याचिका, 7 रोहिंग्या को वापस म्यांमार भेजने का रास्ता साफ़

    SC ने खारिज की प्रशांत भूषण की याचिका, 7 रोहिंग्या को वापस म्यांमार भेजने का रास्ता साफ़

    असम में अवैध तरीके से रह रहे सात रोहिंग्या को म्यांमार वापस भेजने के केंद्र सरकार के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाने से इंकार कर दिया है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने केंद्र सरकार के फैसले पर रोक लागने से इंकार कर दिया. सुनवाई के वक्त केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि सात रोहिंग्या अवैध तरीके से असम में दाखिल हुए और फर्जी पहचान पत्र बनाकर रह रहे थे. दरअसल, सात रोहिंग्या को म्यांमार वापस भेजने के केंद्र सरकार के फैसले को चुनौती देते हुए नई याचिका दायर की गई थी. इन लोगों को गुरुवार को म्यांमार वापस भेजा जाना है.

  •  जस्टिस रंजन गोगोई आज देश के 46वें मुख्य न्यायधीश के तौर पर लेंगे शपथ

    जस्टिस रंजन गोगोई आज देश के 46वें मुख्य न्यायधीश के तौर पर लेंगे शपथ

    जस्टिस रंजन गोगोई बुधवार को चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया की शपथ लेंगे. जस्टिस दीपक मिश्रा मंगलवार यानी गांधी जयंती के दिन सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश के पद से रिटायर हो गए. न्यायमूर्ति गोगोई को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा शपथ दिलाई जाएगी. जस्टिस रंजन गोगोई देश के 46वें मुख्य न्यायधीश के तौर पर शपथ लेंगे. जस्टिस गोगोई इस पद पर पहुंचने वाले पूर्वोत्तखर भारत के पहले मुख्यल न्या्याधीश होंगे. गोगोई का कार्यकाल 13 महीने 12 दिन होगा. 1954 में जन्मे गोगोई 1978 में बार काउंसिल में शामिल हुए थे. इसके बाद, 28 फरवरी, 2001 को उन्हें गुवाहाटी हाईकोर्ट का स्थायी जज नियुक्त किया गया. फरवरी, 2011 में वह पंजाब व हरियाणा के हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बनाए गए. उन्हें पदोन्नति देकर अप्रैल, 2012 में सुप्रीम कोर्ट का जज नियुक्त किया गया.

  •  भीमा कोरेगांव केस: पांचों आरोपी रहेंगे हाउस अरेस्ट, सुप्रीमकोर्ट ने SIT गठन से किया इनकार

    भीमा कोरेगांव केस: पांचों आरोपी रहेंगे हाउस अरेस्ट, सुप्रीमकोर्ट ने SIT गठन से किया इनकार

    सुप्रीम कोर्ट ने आज शुक्रवार को भीमा कोरेगांव केस में सुनवाई करते हुए मामले में गिरफ्तार किए गए पांचों सामाजिक कार्यकर्ताओं की नजरबंदी को 4 सप्तातह के लिए बढ़ा दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए मामले की जांच विशेष जांच दल (SIT) से कराने से इनकार कर दिया. सुप्रीम कोर्ट ने इस पर कहा कि आरोपी खुद जांच एजेंसी नहीं चुन सकते हैं. मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई. चंद्रचूड़ की पीठ ने यह सुनवाई की.

  •  सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी सुप्रीमकोर्ट ने हटाई, कहा- मंदिर के नियम महिलाओं के खिलाफ

    सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी सुप्रीमकोर्ट ने हटाई, कहा- मंदिर के नियम महिलाओं के खिलाफ

    सुप्रीम कोर्ट ने केरल के सबरीमाला मंदिर में 10-50 साल की उम्र की महिलाओं के प्रवेश पर रोक को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर फैसला सुनाया. आपको बता दें कि प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने आठ दिनों तक सुनवाई करने के बाद एक अगस्त को इस मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. कोर्ट ने कहा, सबरीमाला मंद्रि में महिलाओं को एंट्री मिलेगी. कोर्ट ने महिलाओं को मंदिर में जाने का अधिकार दिया. कोर्ट ने कहा कि महिलाएं भी बराबरी की हकदार हैं.

  •  सुप्रीमकोर्ट का बड़ा फैसला, बड़ी बेंच को नहीं भेजा जाएगा मस्जिद में नमाज का मामला

    सुप्रीमकोर्ट का बड़ा फैसला, बड़ी बेंच को नहीं भेजा जाएगा मस्जिद में नमाज का मामला

    सुप्रीम कोर्ट ने मस्जिद को इस्लाम का अभिन्न अंग नहीं बताने वाले 1994 के फैसले को पुनर्विचार के लिए पांच सदस्यीय संविधान पीठ के पास भेजने से इंकार कर दिया है. मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा और जस्टिस अशोक भूषण ने कहा कि इस ममाले को बड़ी बेंच के पास नहीं भेजा जाएगा. जस्टिस भूषण ने कहा कि इस्माइल फारुकी मामला इस मामले से अलग है. सभी धर्मों और धार्मिक स्थलों की समान रूप से इज्जत करने की जरूरत है. कोर्ट ने कहा है कि 29 अक्टूबर 2018 से अयोध्या मामले की सुनवाई होगी. धार्मिक भावनाओं के आधार पर नहीं बल्कि तथ्यों के आधार पर निर्णय किया जाएगा.

Page 1 of 48