•  कांग्रेस की चुनाव-प्रचार की लिस्ट से दिग्विजय सिंह का नाम गायब, राहुल के साथ 40 नेता करेंगे प्रचार

    कांग्रेस की चुनाव-प्रचार की लिस्ट से दिग्विजय सिंह का नाम गायब, राहुल के साथ 40 नेता करेंगे प्रचार

    छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए कांग्रेस ने अपने स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी कर दी है. इस सूची में राहुल गांधी, सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह जैसे दिग्गजों के नाम तो हैं ही साथ में मोतीलाल बोरा, कुमारी शैलजा, भूपेश बघेल भी सम्मिलित हैं. कांग्रेस ने जो सूची चुनाव आयोग को सौंपी है उसमें इनके अलावा सुशील कुमार शिंदे, अशोक गहलोत, गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे, पीएल पुनिया, मुकुल वासनिक, ताम्रध्वज साहू, ज्योतिरादित्य सिंधिया, कैप्टन अमरिंदर सिंह, राज बब्बर, प्रमोद तिवारी, अशोक चौहान, रणदीप, सुरजेवाला, नवजोत सिंह सिद्धू, शक्ति सिंह गोहिल, श्रीमती आशा कुमारी, प्रदीप जैन आदित्य, श्रीप्रकाश जायसवाल भी वोटरों को लुभाने के लिए छत्तीसगढ़ आएंगे.

  •  गोवा: कांग्रेस के 2 विधायक इस्तीफा देकर भाजपा में हुए शामिल

    गोवा: कांग्रेस के 2 विधायक इस्तीफा देकर भाजपा में हुए शामिल

    गोवा में मंगलवार को राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई हैं. राज्य में दो कांग्रेस विधायकों ने मंगलवार को पार्टी को बड़ा झटका देते हुए इस्तीफा दे दिया. इसके बाद दोनों ने बीजेपी का दामन थामने की बात कही है. गोवा कांग्रेस के इन दो विधायकों दयानंद सोपटे और सुभाष शिरोडकर शिरोडा ने अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष प्रमोद सावंत को सौंपा है. इसकी पुष्टि भी विधानसभा अध्यक्ष ने कर दी है.

  •  राजस्थान- बेटों को राजनीति में लांच करने के लिए कांग्रेस-भाजपा के नेताओं में मची रेस

    राजस्थान- बेटों को राजनीति में लांच करने के लिए कांग्रेस-भाजपा के नेताओं में मची रेस

    राजस्थान में आगामी कुछ दिनों में होने वाले विधानसभा चुनाव  के लिए सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और प्रमुख विपक्षी कांग्रेस के बीच सियासी बिसात बिछ चुकी है. दोनों दलों के नेता हालांकि लंबे अर्से से चुनावी-मोड में हैं, लेकिन चुनाव करीब आते ही यह दौड़ काफी तेज हो गई है. चुनाव में ‘अपनों’ के लिए टिकट की रेस. जी हां, राजस्थान में कांग्रेस हो या भाजपा, दोनों दलों के दिग्गज नेता इस विधानसभा चुनाव में अपने-अपने बेटों को ‘सेट’ कर देना चाहते हैं. भाजपा की तरफ से केंद्र में मंत्री हों या राज्य मंत्रिमंडल के सदस्य, कई नेता अपने बेटों को टिकट दिलवाने की कवायद में जुट गए हैं. वहीं, कांग्रेस में भी दिग्गज नेताओं के बीच अपने-अपने बेटों को चुनावी टिकट दिलवाने की होड़ मची है. ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि भाजपा और कांग्रेस के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बने इस विधानसभा चुनाव में राजनीतिक दलों के नेता अपनी पार्टी के लिए मैदान में उतरते हैं या अपने बेटों को ‘विरासत’ सौंपने की जुगाड़ करते हैं.

  •  जम्मू कश्मीर में निकाय चुनाव के आखिरी और चौथे चरण के लिए डाले जा रहे हैं वोट, इन्टरनेट सेवा बंद

    जम्मू कश्मीर में निकाय चुनाव के आखिरी और चौथे चरण के लिए डाले जा रहे हैं वोट, इन्टरनेट सेवा बंद

    जम्मू-कश्मीर में निकाय चुनाव के चौथे और अंतिम चरण के लिए आज यानी मंगलवार को वोट डाले जा रहे हैं. लोग वोटिंग केंद्र पर अपने मत का प्रयोग करने पहुंचने लगे हैं. सुरक्षा के मद्देनजर साउथ, सेंट्रल कश्मीर समेत श्रीनगर को इंटरनेट सेवा को बाधित कर दिया गया है. 36 वार्डों में मतदान हो रहे हैं, जबकि कई निर्वाचन क्षत्रों में प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं जबकि कई में एक भी पर्चा नहीं दाखिल किया गया है. आखिरी चरण में श्रीनगर और गंदेरबल जिलों में 150 उम्मीदवारों की राजनीतिक तकदीर का फैसला होगा. 

  •  चुनाव प्रचार से दूरी बनाने के पीछे दिग्वजिय सिंह ने किया खुलासा

    चुनाव प्रचार से दूरी बनाने के पीछे दिग्वजिय सिंह ने किया खुलासा

    15 साल बाद मध्यप्रदेश की सत्ता से शिवराज सिंह चौहान को बेदखल करने का सपना देख रही कांग्रेस की अंदरूनी कलहबाजी मीडिया के सामने आ गई है. मीडिया में लंबे समय से ऐसी खबरे आ रही हैं कि कांग्रेस एमपी में कई खेमों में बंटी हुई है. मुख्यमंत्री पद को लेकर भी यहां कई दावेदार हैं. कांग्रेस के सीनियर नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्वजिय सिंह को इस बार फिर कांग्रेस कोई खास तवज्जो नहीं दे रही है. यही कारण है कि उनका दर्द छलक उठा और उन्हें कहना पड़ा कि उनके बयान देने से पार्टी के वोट कटते हैं. दिग्विजय सिंह का कहना है कि उनके भाषणों से कांग्रेस को नुकसान होता है इसलिए वह कोई रैली या जनसभा नहीं करते हैं. 

Page 1 of 118