• इस वजह से नहीं खाया जाता हैं नवरात्रि पर प्याज और लहसुन

    इस वजह से नहीं खाया जाता हैं नवरात्रि पर प्याज और लहसुन

    नवरात्रि 2017 का आगमन हो चुका है. नवरात्रि में घर घर में कलश की स्थापना के साथ पूजा अर्चना का दौर चल रहा है. इस वक्त नवरात्रों में लहसुन और प्याज के सेवन से बिल्कुल परहेज किया जाता है. हिंदू रीति रिवाज और लगभग हर धार्मिक कार्यक्रम में यह नियम रहता है. क्या आपने कभी पता करने की कोशिश की है कि आखिर क्यों प्याज और लहसुन का निषेध धार्मिक कार्यों के दौरान रहता है? अगर नहीं तो ये जानकारी आप ही के लिए है…

  •  मां दुर्गा के 9 अलग-अलग अवतारों को पसंद है ये भोग

    मां दुर्गा के 9 अलग-अलग अवतारों को पसंद है ये भोग

    शरद नवरात्रि इस बार 21 सितंबर से शुरू हो रही हैं। लोगों ने इसकी तैयारी में घरों की साफ-सफाई शुरू कर दी है। नवरात्रि में व्रत और पूजा का बहुत ही महत्व है। इस पर्व के दौरान पूरे नौ दिन तक लोग मां जगदंबा के 9 अलग अलग रूपों की अराधना करते हैं। मां को भोग लगाते वक्त यदि यह ध्यान रखा जाए तो कि मां के किस रूप को कौन सा भोग पसंद है तो आसानी से मां की कृपा पाई जा सकती है।

  •  अगर नवरात्रि में चाहिए मां का आशीर्वाद, ऐसे करें सही पूजा

    अगर नवरात्रि में चाहिए मां का आशीर्वाद, ऐसे करें सही पूजा

    नवरात्रि आ रहे हैं और घर-घर में मां के आगमन की तैयारियां शुरू हो गई हैं। इन नौ दिनों में मां दुर्गा की आराधना में हम वास्तु से जुड़ी कुछ बातों का ध्यान रखें तो पूजा का शुभ फल प्राप्त होगा। मां के आशीर्वाद से हमारी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी।

  •  सुबह-सुबह आपके साथ हो ऐसा तो समझ लें आपको मिलने वाली है लक्ष्मी कृपा

    सुबह-सुबह आपके साथ हो ऐसा तो समझ लें आपको मिलने वाली है लक्ष्मी कृपा

    किसी भी व्यक्ति की पैसों से जुड़ी इच्छाएं कब पूरी होंगी, महालक्ष्मी की कृपा कब मिलेगी, यह जानने के लिए ज्योतिष में कुछ  किस्मत का ताला खोलने का उपाय बताए गए हैं. मान्यता है कि जब भी ये संकेत मिलते हैं तो समझ लेना चाहिए कि व्यक्ति को लक्ष्मी की कृपा मिलने वाली है और पैसों की परेशानियां दूर होने वाली हैं.

  •  प्रेत योनी से मुक्ति दिलाएगा इस खास वेदी पर पितरों का पिंडदान

    प्रेत योनी से मुक्ति दिलाएगा इस खास वेदी पर पितरों का पिंडदान

    ऐसे तो आश्विन महीने के कृष्ण पक्ष 'पितृपक्ष' के प्रारंभ होने के बाद अपने पुरखों की आत्मा की शांति और उनके उधार (मोक्ष) के लिए लाखों लोग मोक्षस्थली गया में पिंडदान के लिए आते हैं. परंतु पिंडदान के लिए विश्व में सर्वश्रेष्ठ इस गया में वे प्रेतशिला वेदी पर पिंडदान करना नहीं भूलते. मान्यता है कि प्रेतशिला में पिंडदान के बाद ही पितरों को प्रेतात्मा योनि से मुक्ति मिलती है. आत्मा और प्रेतात्मा में विश्वास रखने वाले लोग आष्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि से पूरे पितृपक्ष की समाप्ति तक गया में आकर पिंडदान करते हैं. यह भी पढ़ें: पितृ पक्ष में पूजा करने के लिए क्यों नही है 12 बजे से पहले का समय मंगलमय, जानिये यहाँ
     
    45 वेदियों में से एक है वेदी प्रेतशिला वेदी
    गया में पुराने समय में 365 वेदियां थी जहां लोग पिंडदान किया करते थे, किंतु वर्तमान वक्त में 45 वेदियां हैं जहां लोग पिंडदान कर तथा नौ स्थानों पर तर्पण कर अपने पुरखों का श्राद्ध करते हैं. इन्हीं 45 वेदियों में से एक वेदी प्रेतशिला वेदी है. 

    गया शहर से करीब आठ किलोमीटर दूर उत्तर पश्चिम में अवस्थित प्रेतशिला पर्वत एक पिंड वेदी है. हिंदू संस्कारों में पंचतीर्थ वेदी में प्रेतशिला की गणना की जाती है.

    प्रेतिशिला वेदी पर अकाल मृत्यु को प्राप्त के पिंडदान का विशेष महत्व
    गयावाल तीर्थव्रती सुधारिनी सभा के अध्यक्ष गजाधर लाल जी ने बताया कि प्रेतिशिला वेदी पर अकाल मृत्यु को प्राप्त जातक का श्राद्ध और पिंडदान का विशेष महत्व है. ऐसी मान्यता है कि इस पर्वत पर पिंडदान करने से अकाल मृत्यु को प्राप्त पूर्वजों तक पिंड सीधे पहुंच जाते है, जिनसे उन्हें कष्टदायी योनियों से मुक्ति मिल जाती है.

    इस पर्वत को प्रेतशिला के अलावा प्रेत पर्वत, प्रेतकला एवं प्रेतगिरि भी कहा जाता है पंचतीर्थ वेदी गया तीर्थ के उत्तर एवं दक्षिण में भी है. उत्तर के पंचतीर्थ में प्रेतशिला, ब्रह्मकुंड, रामशिला, रामकुंड और कागबलि की गणना की जाती है. प्रेतशिला 876 फीट ऊंचा पुराने परतदार पर्वत पर निर्मित है. 

    किवंदतियों के अनुसार, इस पर्वत पर श्रीराम, लक्ष्मण एवं सीता भी पहुंचकर अपने पिता राजा दशरथ का श्राद्ध किया था. कहा जाता है कि पर्वत पर ब्रह्मा के अंगूठे से खींची गई दो रेखाएं आज भी देखी जाती हैं. 

    873 फीट उंची पहाड़ी पर है प्रेतशिला
    गया शहर से लगभग चार किलोमीटर दूर प्रेतशिला तक पहुंचने के लिए 873 फीट उंचे प्रेतशिला पहाड़ी के शिखर तक जाना पड़ता है. ऐसे तो सभी श्रद्धालु पिंडदान करने वाले यहां पहुंचते हैं, किंतु शारीरिक रूप से कमजोर लोगों को इतनी ऊंचाई पर वेदी के होने के कारण वहां तक पहुंचना मुश्किल होता है. उस वेदी तक पहुंचने के लिए यहां पालकी की व्यवस्था भी है, जिस पर सवार होकर शारीरिक रूप से कमजोर लोग यहां तक पहुंचते हैं. 

    पंडा मनीलाल बारीक कहते हैं कि प्रेतशिला वेदी के पास विष्णु भगवान के चरण के निशान हैं तथा इस वेदी के पास पत्थरों में दरार है. मान्यता है कि यहां पिंड दान करने से अकाल मृत्यु को प्राप्त पूर्वजों या परिवार का कोई सदस्य तक पिंड सीधे उन्हीं तक जाता है तथा उन्हें मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है.

    उन्होंने बताया कि सभी वेदियों पर तिल, गुड़, जौ आदि से पिंड दिया जाता है, किंतु इस पिंड के पास तिल मिश्रित सत्तु छिंटा (उड़ाया) जाता है. उन्होंने बताया कि पूर्वज जो मृत्यु के बाद प्रेतयोनि में प्रवेश कर जाते हैं तथा अपने ही घर में लोगों को परेशान करने लगते हैं, उनका यहां पिंडदान हो जाने से उन्हें शांति मिल जाती है और वे मोक्ष को प्राप्त कर लेते हैं. 

    कैसे पड़ा प्रेतशिला नाम
    उन्होंने बताया कि पहले प्रेतशिला का नाम प्रेतपर्वत हुआ करता था, परंतु भगवान राम के यहां आकर पिंडदान करने के पश्चात इस स्थान का नाम प्रेतशिला हुआ. प्रेतशिला में पिंडदान के पूर्व ब्रह्म कुंड में स्नान-तर्पण करना होता है. ब्रह्म कुंड के बारे में कहा जाता है कि इसका प्रथम संस्कार भगवान ब्रह्मा जी द्वारा किया गया था.

    गया में पिंडदान करने आए नेपाल के महेश लेपचा कहते हैं कि मरने के बाद कौन कहां जाता है यह गूढ़ रहस्य है, परंतु सनातन परंपरा के मुताबिक पिंडदान जरूरी है, जिसका पालन कर रहा हूं. उनका मानना है कि पिंडदान से पूर्वजों को मोक्ष की प्राप्ति होती है.

Page 3 of 8