•  जानें, लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि

    जानें, लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि

    वीरवार को भारत में दिवाली का त्योहार मनाया जाएगा. दीपावली का त्योहार देश के एक बड़े त्योहारों में से एक है. इस त्योहार में लोग घरों से लेकर कारखानों की साफ सफाई करते हैं. उसके बाद शुभ मुहर्त देख के माता लक्ष्मी की आराधना करते हैं. कहा जाता है कि इस पूजा को करने से पूरे वर्ष घर में धन्य-धान्य की कमी नहीं होती. यह त्योहार धनतेरस से शुरू होती है और भाई दूज पर खत्म होता है.

  •  धनतेरस पर जीनें खरीदारी करने शुभ मुहूर्त, ना खरीदें भूल कर भी ये सामान

    धनतेरस पर जीनें खरीदारी करने शुभ मुहूर्त, ना खरीदें भूल कर भी ये सामान

    धनतेरस के अवसर पर सोने-चांदी के गहने व बर्तन आदि खरीदने की परंपरा है. सोने-चांदी को स्थिर लक्ष्मी कहा गया है. धनतेरस पर खरीददारी करने का सबसे सही समय या मुहूर्त शाम 4 से 7.21 बजे तक है. जबकि शाम 3 बजे से 4.30 के बीच का समय खरीददारी के लिए अशुभ बताया गया है.

  •  जानें धनतेरस पर माँ की पूजा की सही विधी और मुहूर्त

    जानें धनतेरस पर माँ की पूजा की सही विधी और मुहूर्त

    पूरे हिंदुस्तान में धन की देवी माँ लक्ष्मी को माना जाता है। दन्त कथाओं और शास्त्रों के मुताबिक, माँ लक्ष्मी की उत्पत्ति समुद्र मंथन के दौरान हुईं थीं । उनके साथ ही भगवान धनवन्तरि भी अमृत कलश के साथ सागर मंथन से पैदा हुए थे। कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन ही धन्वन्तरि का जन्म हुआ था इसी वजह इस तिथि को धनतेरस के नाम से जाना जाता है। भगवान धन्वन्तरी जब धरती पर आये थे तब उन्होंने हाथो में अमृत से भरा कलश पकड़ा था। भगवान धन्वन्तरि चूंकि कलश लेकर प्रकट हुए थे इसलिए ही इस अवसर पर बर्तन खरीदने की परम्परा है।

  •  करवाचौथ स्पेशल: पति की उम्र लम्बी करने के लिए थाली में रखें ये चीज़ें

    करवाचौथ स्पेशल: पति की उम्र लम्बी करने के लिए थाली में रखें ये चीज़ें

    करवाचौथ व्रत पर सजी थाली का बहुत महत्व होता है। शाम की पूजा के दौरान इसे अत्यंत जरुरी माना जाता है। इस थाली को 'बाया' भी कहते हैं, जिसमें सिन्दूर, रोली, जल और सूखे मेवे रहते हैं। करवाचौथ की थाली में मिट्टी के दीये, कई तरह की मिठाइयां सजाकर रखी जाती हैं।

  •  आज है शरद पूर्णिमा, चंद्रमा की किरणों से बरसेगा अमृत, खीर खाने से होगा विशेष लाभ

    आज है शरद पूर्णिमा, चंद्रमा की किरणों से बरसेगा अमृत, खीर खाने से होगा विशेष लाभ

    हिंदी पंचाग के अनुसार अश्विन महीने के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं. शुक्रवार को शरद पूर्णिमा की रात है. आज की रात चंद्रमा की किरणों से अमृत बरसता है, ऐसी मान्यता है. सनातन धर्म में शरद पूर्णिमा के अनेक लाभ बताए गए हैं, जैसे इस रात चंद्रमा सोलह कला पूर्ण होता है और आज की रात पृथ्वी के सबसे निकट होता है. आज खुले आसमान में चंद्रमा की किरणें व्यक्ति को निरोगी बना देती हैं.

Page 2 of 8