•  जन्माष्टमी में फल और अनाज दान करने से हो सकते हैं, आप गरीबी से दूर

    जन्माष्टमी में फल और अनाज दान करने से हो सकते हैं, आप गरीबी से दूर

    भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि पर श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाती है। इस बार 15 अगस्त को जन्माष्टमी है, लेकिन इस संबंध में पंचागं भेद भी हैं। कुछ क्षेत्रों में 14 अगस्त को जन्माष्टमी मनाई जाएगी. जरूर पढ़ें: इन चीजों को पास रखने से हमेशा नोटों से भरी रहेगी जेब 

  •  वास्तु कर देगा आपको मालामाल, अपनाये ये तरीके

    वास्तु कर देगा आपको मालामाल, अपनाये ये तरीके

    वास्तु शास्त्र के मुताबिक़, हर तरह के बिज़नेस की अपनी एक अलग एनर्जी होती है। जिसका सही तरह से प्रयोग करने पर व्यक्ति को अपने व्यपार में कभी पैसों की समस्या नहीं आती। आज हम आपको बताने जा रहे हैं, बिजनेस में हमेशा गुडलक और धन बनाए रखने के लिए कौन-से व्यपारी को अपने बेडरूम में कौन-सी वस्तु रखनी चाहिए।

  •  जन्माष्टमी में अपनाएं ये उपाय, किसी 1 से भी चमक सकता है भाग्य

    जन्माष्टमी में अपनाएं ये उपाय, किसी 1 से भी चमक सकता है भाग्य

    भादौ माह के कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि की जन्माष्टमी का फेस्टिवल मनाया जाता है. यह त्योहार भगवान श्रीकृष्ण के जन्म उत्सव के रूप में मनाया जाता है. अगर इस दिन भगवान श्रीकृष्ण को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय किए जाएं तो प्रत्येक मनोकामना पूरी हो सकती है.

  •  शिक्षा का नया उपाय “वास्तु टिप्स”

    शिक्षा का नया उपाय “वास्तु टिप्स”

    वास्तु दिशानिर्देशों का विज्ञान है और बच्चों की पढ़ाई में तथा अन्य कलात्मक गतिविधियों में श्रेष्ठता प्राप्त करने के लिए इसका महत्त्व है. बच्चों के माता-पिता ने ना सिर्फ स्कूल शिक्षा तथा अध्यापन  ट्युशन्स पर बल्कि शिक्षा के लिए वास्तु  पर भी अपना ध्यान केंद्रित करना चाहिए अगर बच्चों की पढ़ाई का रूम वास्तु अनुरूप नहीं है तो बच्चे को अपनी पढ़ाई में ध्यान केंद्रित करने में परेशानी हो सकती है. और कुछ विषयों को समझने में कठिन हो सकता है. बच्चों के पढ़ाई के कमरे में सकारात्मक ऊर्जा होनी चाहिए जिससे अपने हाथ में जो कार्य  है उस पर बच्चों का ध्यान केंद्रित होने में उन्हें मदद मिलेगी. छात्रों को अपनी पढ़ाई में तथा अन्य कलात्मक गतिविधियों में उत्तम लक्ष्यप्राप्ति प्राप्त करने हेतु शिक्षा के लिए वास्तु टिप्स  से मदद मिलेगी. कई बार छात्रों के प्रयासों के अच्छे रिजल्ट नहीं मिलते हैं लेकिन वास्तु बच्चों की इस प्रयास को सहायता करता है और एकाग्रता के स्तर में सुधार करने में मदद कर सकते हैं.

  •  वास्तु टिप्स को अपनाने से होंगे विवाह के सारे कष्ट दूर

    वास्तु टिप्स को अपनाने से होंगे विवाह के सारे कष्ट दूर

    विवाह हर किसी की जीवन का अहम हिस्सा होता है. हालांकि जीवनसाथी चुनने की प्रक्रिया कई व्यक्तियों के लिए सिरदर्द बन जाती है. कई लोगों को देरी से शादी होने के कारणों का सामना करना पड़ता है. देरी से विवाह होने के मामलों में व्यक्ति तथा परिवार को सामाजिक दबाव और उदासी का सामना करना पडता है. जिससे घर में संघर्ष पैदा हो सकते हैं. जो लोग देरी से शादी होने के मामलों का सामना करते हैं. उनके लिए विवाह के लिए वास्तु टिप्स बड़ी सहयता साबित होती है. विवाह के लिए वास्तु  उन लोगों के लिए भी है जो पहले ही प्रयास में अपना जीवनसाथी खोजने में सफल होते हैं. ज्यादातर लोग अपनी कुंडली में दोषों पर ही अपना ध्यान केंद्रित करते हैं और वास्तु दोष के बारे में भूल जाते हैं. अच्छा गठबंधन खोजने के लिए घर के वास्तु दोष को नष्ट कर देना चाहिये. वास्तु एक विज्ञान है जो व्यक्ति के आंतरिक ऊर्जा को ऊपर उठाता है. जिससे आकर्षक व्यक्तिमत्व का विकास होता है. जो उचित व्यक्ति को आकर्षित करता है. जरूर पढ़ें: यदि आप भी पैसों की तंगी से परेशान है तो आज ही करें ये उपाय

Page 4 of 9