पाकिस्तानी रुपया अब तक सबसे निचले स्तर पर, हमारी अठन्नी के बराबर रह गया

 पाकिस्तान में आर्थिक संकट, रुपया भारतीय अठन्नी के बराबर

पाकिस्तान में जुलाई में संसदीय चुनाव होने वाले है लेकिन उससे पहले ही पाकिस्तान में आर्थिक संकट छा रहा है. न्यूकज एजेंसी रॉयटर्स की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार सोमवार को डॉलर के मुकाबले पाकिस्ता न के रुपए में 3.8 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है. अमेरिकी डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया की कीमत 122 रुपये हो गई है. भारतीय रुपया अभी 67 रुपये का है.

पाकिस्तान का सेंट्रल बैंक पिछले सात महीने में तीन बार रुपये का अवमूल्यन कर चुका है, लेकिन इसका प्रभाव नहीं दिख रहा है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक पाकिस्तान का केंद्रीय बैंक भुगतान संतुलन के संकट से बचने की कोशिश कर रहा है. ईद से पहले पाकिस्तान की माली हालत आम लोगों को निराश करने वाली है. पाकिस्तान में 25 जुलाई को आम चुनाव है और चुनाव से पहले कमजोर आर्थिक स्थिति को भविष्य के लिए गंभीर चिंता की तरह देखा जा रहा है.

रुपए में जारी गिरावट पर द स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान ने कहा है, यह बाज़ार में जारी उठा-पटक का परिणाम है. हालात पर हम लोगों की नज़र बनी हुई है. पाकिस्तान में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के एक अर्थशास्त्री अशफाक हसन खान ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहा कि अभी पाकिस्तान में अंतरिम सरकार है और चुनाव के वक्त में वो आईएमफ जाने पर मजबूर हो सकती है.

स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक का आकलन है कि साल के अंत तक पाकिस्तानी करेंसी की वैल्यू 125 रुपये तक गिर सकती है. हालांकि कुछ ट्रेडर्स का कहना है कि एसबीपी ने कीमत नहीं घटाई. डॉलर की मांग बहुत ज्यादा बढ़ने से पाकिस्तानी करेंसी कमजोर हुई है. एसबीपी ने हस्तक्षेप नहीं किया और इसे गिरने दिया.

loading...