निपाह वायरस से एक और मौत, मरने वालों की संख्या बढ़कर 12 हुई

 केरल में Nipah वायरस से अब तक 12 लोगों की मौत हुई

केरल के कोझिकोड में गुरुवार को निपाह वायरस से संक्रमित होकर एक और शख्स की मौत हो गई, 5 की हालत नाजुक है. राज्य में इस वायरस से अब तक 12 लोगों की जान जा चुकी है. वायरस से संक्रमित 14 नए मरीज मिले हैं. प्रशासन ने ऐहतियातन कोझिकोड में ट्यूशन, ट्रेनिंग और पब्लिक मीटिंग पर पाबन्दी लगा दी है. निपाह से राज्य में पहली मौत 19 मई को हुई थी.

सरकार ने लोगों से राज्य के चार उत्तरी जिलों कोझिकोड, मलप्पुरम, वयनाड और कन्नूर में जाने से बचने को कहा है. स्वास्थ्य सचिव राजीव सदानंदन ने कहा,  राज्य के बाकी हिस्से में जाना सुरक्षित है. लोग अतरिक्त ऐहतियात बरतना चाहते हैं तो वे इन चार जिलों में जाने से बच सकते हैं. सरकार ने मुद्दे पर चर्चा के लिए 25 मई को कोझिकोड में सर्वदलीय बैठक बुलाई है.

कोझिकोड के कलेक्टर यूवी जोशी ने 31 मई तक सभी पब्लिक मीटिंग पर प्रतिबन्ध लगा दिया है. यहां तक की इलाके में कोई भी कोचिंग और ट्रेनिंग भी नहीं होगी. हेल्थ डिपार्टमेंट के अनुसार, अब तक 160 संदिग्ध लोगों के नमूने जांच के लिए भेजे गए थे. जिनमें से 22 के नतीजे आ गए हैं, इनमें से 14 संक्रमित पाए गए हैं. कोझिकोड मेडिकल कॉलेज में 160 और मलापुरम में 24 लोगों को निगरानी में रखा गया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, इस वायरस का अभी तक वैक्सीन विकसित नहीं हुआ है. इलाज के नाम पर मरीजों को इंटेंसिव सपोर्टिव केयर ही दी जाती है. इस बीमारी से बचने के लिए खजूर, उसके पेड़ से निकले रस और पेड़ से गिरे फलों को नहीं खाना चाहिए. बीमार सुअर, घोड़ों और दूसरे जानवरों से दूरी बनाए रखनी चाहिए.

loading...