•  इस वजह से बरेली से लेकर उत्तराखंड तक पसरा मातम

    इस वजह से बरेली से लेकर उत्तराखंड तक पसरा मातम

    नेशनल हाईवे-24 पर बारातियों से भरी एक टाटा सूमो शुक्रवार देर रात लगभग बीस फीट गहरे नाले में जा गिरी. इस हादसे में 2 मासूम व दूल्हे के पिता समेत 6 लोगों की मृत्यु हो गई. आठ से अधिक लोग घायल हुए हैं. हादसा कार में सवार एक बच्चे द्वारा हैंड ब्रेक खोलने की वजह से हुआ. उधर, घटना के बाद विजय नगर थाना क्षेत्र के गांव अकबरपुर बहरामपुर में शादी का जश्न मातम में बदल गया.

  •  जज लोया की मौत पर उठे सवाल आधारहीन थे, कांग्रेस और विपक्ष ने मुझे टारगेट किया: अमित शाह

    जज लोया की मौत पर उठे सवाल आधारहीन थे, कांग्रेस और विपक्ष ने मुझे टारगेट किया: अमित शाह

    जस्टिस लोया की मृत्यु की स्वतंत्र जांच की डिमांड को सुप्रीम कोर्ट ने ठुकरा दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने याचिका दायर करने वालों की मंशा पर भी सवाल उठाए हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के दो दिन बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने इस मामले पर चुप्पी तोड़ी है. 

  •  नरोदा पाटिया दंगों में बाबू बजरंगी को उम्रकैद की सजा, माया कोडनानी बरी

    नरोदा पाटिया दंगों में बाबू बजरंगी को उम्रकैद की सजा, माया कोडनानी बरी

    गुजरात के नरोदा पाटिया केस में उच्च न्यायालय ने बड़ा निर्णय सुनाया है. बाबू बजरंगी को 21 वर्ष की जेल हुई है. हालांकि पहले हाईकोर्ट ने बजरंगी को ताउम्र जेल की सजा सुनाई थी, बाद में इसे बदल दिया गया. इस मामले में हरीश छारा और सुरेश लंगड़ा को भी दोषी करार दिया गया है. वहीं, उच्च न्यायालय ने पूर्व मंत्री कोडनानी को निर्दोष करार देते हुए बरी कर दिया. वारदात की जगह कोडनानी की मौजूदगी साबित नहीं हो पायी. वहीं बाबू बजरंगी समेत 31 दोषियों की सजा कोर्ट ने बरकरार रखी है. 

  •  CJI के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पर 64 सांसदों ने किए हस्ताक्षर, 7 दलों में बनी सहमति

    CJI के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पर 64 सांसदों ने किए हस्ताक्षर, 7 दलों में बनी सहमति

    चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के विरुद्ध महाभियोग प्रस्ताव लाने के लिए विपक्ष सहमत हो गया है. मीडिया रिपोर्टस के अनुसार प्रस्ताव लाने के लिए कांग्रेस समेत 7 पार्टियां राजी हुई हैं और इस पर 64 सांसदों ने हस्ताक्षर किये हैं. हालांकि पहले 71 सांसदों ने हस्ताक्षर किये थे लेकिन कुछ वक्त पहले 7 सांसद रिटायर हो गए. 

  •  पूर्व जज राजिंदर सच्चर का 94 साल की उम्र में निधन, ऐसे हुई थी वकालत की शुरूआत

    पूर्व जज राजिंदर सच्चर का 94 साल की उम्र में निधन, ऐसे हुई थी वकालत की शुरूआत

    दिल्ली उच्च न्यायालय के पूर्व चीफ जज राजिंदर सच्चर का निधन हो गया है. जस्टिस सच्चर 94 साल के थे. भारत में मुसलमानों की स्थिति पर बनाई गई जज सच्चर कमेटी काफी चर्चा में रही थी. उनका जन्म 22 दिसम्बर 1923 को हुआ था. जज सच्चर काफी समय से बीमार थे और हाल ही में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. मानवाधिकार को लेकर जज सच्चर ने काफी काम किया था.

Page 2 of 237