शोध से पता चला है कि दोस्त आपके दिमाग को रखते हैं दुरुस्त

 अपने दिमाग को दुरुस्त रखने के लिए बनाएं ज्यादा से ज़्यादा मित्र

कहते हैं दोस्त होना जीवन में अत्यंत आवश्यक है. यदि आपके दोस्त आपके आस-पास रहेंगे तो आपका दिमाग अधिक सही तरीके से काम करेगा. ये बात हम नहीं एक शोध में सामने आई है. शोध के अनुसार, दोस्त होने और सामाजिक दायरा बढ़ने से दिमाग पर उम्र का असर देर से होता है, दिमाग सुरक्षित रहता है और जीवन स्तर में सुधार होता है.

यादों, भावनाओं और प्रेरणाओं को महसूस करने वाला दिमाग का हिस्सा स्पष्ट रूप से उम्र के साथ प्रभावित होता है. लोगों के दिमाग के इस हिस्से में सामाजिक संबंध संरक्षित रहते हैं.

अमेरिका के कोलंबस में ‘ओहियो स्टेट विश्वविद्यालय’ में ‘न्यूरोलॉजिकल इंस्टीट्यूट’ की मुख्य शोधकर्ता एलिजाबेथ किर्बी ने कहा, “हमारे शोध में खुलासा हुआ कि सामाजिक रूप से सक्रिय व्यक्ति के दिमाग पर उम्र का प्रभाव पड़ता है. शोधकर्ताओं के दल ने 15-18 महीने के चूहों के दो समूह बनाकर तीन महीनों तक अध्ययन किया जब उनकी प्राकृतिक याददाश्त में गिरावट आने लगती है. 

चूहों को एक खिलौना पहचानने का शोध कर उनकी स्मरण शक्ति परखी गई. शोध के परिणामों के अनुसार समूह में रहने वाले चूहों की स्मरण क्षमता बेहतर थी. किर्बी ने कहा, जहां अकेले साथी के साथ रहने वाले चूहे यह पहचानने में असफल रहे कि किसी वस्तु को हटाया गया है, वहीं समूह में रहने वाले चूहों ने कामयाब परिणाम दिए. 

वे दूसरी जगह रखे गए पुराने खिलौने के पास गए और अपने स्थान पर रखे गए दूसरे खिलौने को उन्होंने नजरंदाज कर दिया. उन्होंने कहा कि भविष्य में शोध कर सामाजिक स्वभाव का स्मरण शक्ति और मानसिक स्वास्थ्य से संबंधों का भी खुलासा किया जा सकेगा.

इसलिए अब बेहतर यही होगा कि अगर आपको अकेले रहेने की आदत है तो आप सावधान हो तो अपने दोस्तों का दायरा बढाये. 

loading...