बड़ा फैसला: PF ट्रस्‍ट चलाने वाली कंपनियों की ऑनलाइन चेक होगी परफार्मेस, कम स्‍कोर पर होगा सख्‍त एक्शन

 बड़ा फैसला: PF ट्रस्‍ट चलाने वाली कंपनियों की ऑनलाइन चेक होगी परफार्मेस

अब अपना प्रॉविडेंट फंड ट्रस्‍ट चलाने वाली कंपनियों को नियमों का अनुपालन न करना महंगा पड़ेगा. कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन ने एग्‍जेम्‍पटेड इस्‍टैबलिशमेंट के प्रदर्शन का आकलन ऑनलाइन कर रहा है. इसके लिए 6 मानक तय किए गए हैं. हर मानक के अनुपालन के लिए सौ अंक तय किए गए हैं. इन मानकों के अनुपालन के आधार पर इस्‍टैबलिशमेंट की रैकिंग तैयार की जा रही है. अगर किसी इस्‍टैबलिशमेंट का रैकिंग में स्‍कोर 300 से कम आता है तो ईपीएफओ उस इस्‍टैबलिशमेंट के खिलाफ सख्‍त एक्‍शन लिया जाएगा. जिसमें कंपनी को अपने कर्मचारियों का पीएफ खुद मैनेज करने की छूट खत्‍म करना भी शामिल है. 

EPFO के सेंट्रल पीएफ कमिश्‍नर डॉ वीपी जॉय ने सभी एडिशनल सेंट्रल पीएफ कमिश्‍नर जोन और सभी रीजनल पीएफ कमिश्‍नर को पत्र लिख कर कहा है कि 6 मानकों पर एग्‍जेम्‍पटेड इस्‍टैबलिशमेंट के प्रदर्शन का आकलन किया जा रहा है. इसमें ड्यू डेट से पहले फंड का ट्रांसफर, इन्‍वेस्‍टमेंट, रेमिटेंस टू द ट्रस्‍ट, डिक्‍लेयर किया गया इंटरेस्‍ट, क्‍लेम सेटेलमेंट और ऑडिट ऑफ अकाउंट शामिल है. हर एक मानक पर खरा उतरने पर इंस्‍टैबलिशमेंट को सौ अंक मिलेंगे. किसी मानक पर खरा न उतरने वाले इस्‍टैबलिशमेंट के अंक कंटेंगे. 

वहीं, इन मानकों पर 675 इस्‍टैबलिशमेंट ने फरवरी 2018 वेज मंथ में खराब प्रदर्शन किया है. इन इस्‍टैबलिशमेंट ने रैकिंग में 300 से कम स्‍कोर किया है. 675 में से 433  इस्‍टैबलिशमेंट ने फरवरी माह का रिटर्न ही फाइल नहीं किया है और रैकिंग लिस्‍ट में 0 अंक स्‍कोर किया है. 

सेंट्रल पीएफ कमिश्‍नर ने कहा है कि अगर इतने बड़े पैमाने पर इस्‍टैबलिशमेंट बेसिक मानकों पर प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं तो ऐसे इस्‍टैबलिशमेंट और उनके ट्रस्‍ट आने वाले समय में डिफॉल्‍ट कर सकते हैं और एग्‍जेम्‍पशन की शर्तो का उल्‍लंघन कर सकते हैं. 

बताते चलें कि पत्र में कहा गया है कि सभी फील्‍ड ऑफिसर्स एग्‍जेम्‍पटेड इस्‍टैबलिशमेंट से नियमों का अनुपालन सुनिश्चित कराएं. अगर कोई इस्‍टैबलशिमेंट एग्‍जेम्‍पशन की शर्तो का उल्‍लंघन करता पाया जाता है तो उसके खिलाफ कड़ा एक्‍शन लिया जाए.
 

loading...