आर्थिक सलाहकार के पद से अरविंद सुब्रमण्यम ने दिया इस्तीफा, कहा- सबसे अच्छा जॉब रहा

 इस्तीफा देने देने के बाद अरविंद सुब्रमण्यम ने बोले- ये सबसे अच्छा जॉब था

मुख्य आर्थिक सलाहकार (CEA) अरविंद सुब्रमण्यम फाइनेंस मिनिस्ट्री छोड़ रहे हैं और वह पारिवारिक जिम्मेदारियों के कारण अमेरिका जा रहे हैं. केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने फेसबुक पोस्ट के जरिये यह जानकारी दी. सुब्रमण्यम को 16 अक्टूबर 2014 को वित्त मंत्रालय में मुख्य आर्थिक सलाहकार नियुक्त किया गया था. उनकी नियुक्ति तीन साल के लिए हुई थी. 2017 में उनका कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ाया गया था.

जेटली ने कहा, कुछ दिन पहले सुब्रमण्यम ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से मेरे से बात की. उन्होंने बताया कि वह पारिवारिक प्रतिबद्धताओं के कारण अमेरिका लौटना चाहते हैं. उनके कारण व्यक्तिगत हैं, लेकिन उनके लिए काफी महत्वपूर्ण हैं. मेरे पास उनसे सहमत होने के अलावा दूसरा विकल्प नहीं था. जेटली ने कहा कि पिछले साल अक्टूबर में सुब्रमण्यम का तीन साल का कार्यकाल पूरा हुआ था. इसके बाद उन्होंने सुब्रमण्यम से कुछ समय और पद पर बने रहने का निवेदन किया था.

जेटली ने कहा, यहां तक उन्होंने अभी मुझे बताया है कि वह पारिवारिक जिम्मेदारियों और मौजूदा नौकरी के बीच फंसे हुए हैं. यह उनकी अब तक की यह सबसे संतोषजनक नौकरी है. जेटली की मई में किडनी ट्रांसप्लांट हुई थी. अभी वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार पीयूष गोयल के पास है. जेटली ने भारतीय अर्थव्यवस्था के वृहद आर्थिक प्रबंधन के लिए सुब्रमण्यम का आभार व्यक्त किया.

उन्होंने कहा, व्यक्तिगत रूप से मुझे उनके व्यक्तित्व, ऊर्जा, बौद्धिक क्षमता और विचारों की कमी खलेगी. एक दिन में वह कई बार मेरे कमरे में आकर मुझे मिनिस्टर कहकर बुलाते थे. कभी वह अच्छी खबर देते तो कभी दूसरे तरह का समाचार देने आते थे. निश्चित रूप से मुझे उनकी कमी खलेगी. मुझे विश्वास है कि वह कहीं भी होंगे वहां से अपनी सलाह या विश्लेषण भेजते रहेंगे.

loading...