BMW पर डीजल एमि‍शन को लेकर लगा धोखा देने का आरोप

 BMW पर डीजल एमि‍शन को लेकर लगा धोखा देने का आरोप

अमेरि‍का में जर्मनी की लग्‍जरी कार कंपनी बीएमडब्‍ल्‍यू पर हजारों गाड़ि‍यों में 'डि‍फीट डीवाइज' इंस्‍टॉल करने पर मुकदमा कि‍या गया है. बीएमडब्‍ल्‍यू पर अमेरि‍का में डीजल एमि‍शन टेस्‍ट में धोखाधड़ी करने का आरोप है. न्‍यू जर्सी में फेडरल कोर्ट में केस को फाइल कि‍या गया है जोकि जज द्वारा सर्टि‍फाइड करने के बाद मुकदमे का रूप ले लेगा. यह मुकदमा 2009 से 2013 के बीच बेची गईं BMW एक्‍स5 और 335डी मॉडल डीजल कारों पर कि‍या गया है.  

Hagens Berman कंपनी के वकीलों का दावा है कि इन कारों का एमि‍शन स्‍टैडर्ड लेवल से 27 गुना तक अधिक है. ऐसा 'डि‍फीट डीवाइज' और 'चालाक सॉफ्टवेयर' के कारण हुआ है. कंपनी के मैनेजिंग पार्टनर स्‍टीव बरमन ने कहा कि इस लेवल पर ये कारें न सिर्फ खराब है बल्‍कि‍ यह कानूनी तौर पर अमेरि‍की सड़कों पर चलने के स्‍टैंडर्ड को पूरा भी नहीं करती हैं. और यदि बीएमडब्‍ल्‍यू सबको सच बताती तो कोई भी इन कारों को नहीं खरीदता. उन्‍होंने कहा कि BMW ने दो टूक तरीके से अपने लॉयल कस्‍टमर्स को अंधेरे में रखा. 

BMW पहली ऐसी कंपनी नहीं है जि‍सपर एमि‍शन का उल्‍लंघन करने के खि‍लाफ कानूनी कार्रवाही का सामना करना पड़ रहा है. इससे पहले फॉक्‍सवैगन पर 1.1 करोड़ कारों में डि‍फीट डीवाइसेज लगाने का आरोप साबि‍त हुआ था. दुनि‍या भर में 'डीजलगेट' स्‍कैंडल नाम से जाना गया. वकीलों की ओर से उनके क्‍लाइंट्स के लि‍ए मुआवजे की मांग की जा रही है.

loading...