• स्मार्टफोन से कर ली शादी, वजह जानकर चौंक जाएंगे आप!

    स्मार्टफोन से कर ली शादी, वजह जानकर चौंक जाएंगे आप!

    कोई व्यक्ति स्मार्टफोन से शादी कर सकता है? क्या ऐसा भी हो सकता है? अगर आप सोच रहे हैं कि ये पागल बनाने वाली बात है, तो शायद आप गलत हैं। वैसे भी लॉस वेगास में कुछ भी हो सकता है। शादियां तो यहां चुटकी बजाते हो जाती है, इसके लिए एक हैप्पी कपल चाहिए होता है। पर इस बार एक व्यक्ति ने अपने स्मार्टफोन से ही शादी रचा ली।

  • नौकरी से 15 साल रहे गायब, लेकिन लेते रहे सैलरी..

    नौकरी से 15 साल रहे गायब, लेकिन लेते रहे सैलरी..

    कोई कर्मचारी नौकरी से 15 सालों से गायब रहें और घर बैठे तनख्वाह मिलती रहे तो क्या बात हो? ऐसी ही खबर स्पेन से है, जहां पूरे 15 साल बाद बॉसेज को पता चला कि जिन दो लोगों को वो सैलरी देते हैं और उन्हें कभी देखते ही नहीं वो दरअसल कभी नौकरी पर आते ही नहीं। और जब रिकॉर्ड चेक किया गया तो पता चला कि वो एक-दो सालों से नहीं, बल्कि पूरे 15 सालों से नौकरी पर आए ही नहीं। ये घटना उत्तरी स्पेन की है। ये दोनों सरकारी नौकरी में हैं। पर माली और ड्राइवर की नौकरी करने वाले ये दोनों कभी काम पर गए बगैर ही सैलरी उठाते रहे। इस बात की जानकारी लेबर यूनियन की वेबसाइट पर भी दी गई है।नौकरी से गायब रहे दोनों कर्मचारियों ने खुद लिखित में इस बात को स्वीकारा है कि वो पिछले 15 साल से ऑफिस नहीं गए और घर बैठे ही तनख्वाह लेते रहे।

  • एक आदमी को है बच्‍चे पैदा करने की सनक, बनना चाहता है 100 बच्चों का बाप

    एक आदमी को है बच्‍चे पैदा करने की सनक, बनना चाहता है 100 बच्चों का बाप

    पाकिस्तान में रहने वाले एक शख्स जो अपनी फैमिली बढ़ाने के लिए चौथी पत्नी की तलाश में है। उनके अभी तक 35 बच्चें है और उनकी चाहत 100 बच्चें पैदा करने की है। साथ ही उनका कहना है कि ये उनका धार्मिक कर्तव्य है कि वे जितना हो सके अधिक से अधिक बच्चे पैदा करें। 

  • 8 बच्चों के दादाजी, 68 साल की उम्र में कर रहे हैं 10वीं में पढ़ाई, जज्बे को सलाम

    8 बच्चों के दादाजी, 68 साल की उम्र में कर रहे हैं 10वीं में पढ़ाई, जज्बे को सलाम

    काठमांडू. कहते हैं पढ़ाई की उम्र नहीं होती, कभी भी कुछ सीखने को मिले तो इंसान को उसे ग्रहण करना चाहिए. ऐसा ही कारनामा एक नेपाली बुजुर्ग ने साबित करके दिखाया है. स्यांगजा प्रांत के रहने वाले 68 साल के दुर्गा बचपन में पढ़ाई पूरी नहीं कर सके. लिहाजा, इस उम्र में उन्होंने हायर सेकेंडरी स्कूल में दाखिला ले लिया. अब वो सुबह-सुबह स्कूल यूनिफॉर्म पहन कर हाथों में छड़ी लेकर एक किलोमीटर पैदल चलकर स्कूल पहुंचते हैं और छोटे बच्चों के साथ पढ़ाई का मजा ले रहे हैं.