काबुल: आत्मघाती हमले में अब तक सात लोगों के मौत की पुष्टि

 काबुल में मस्जिद के बाहर आत्मघाती हमला, 7 की मौत व 22 घायल

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में एक आत्मघाती हमलावर ने शुक्रवार को खुद को उड़ा लिया, इस हमले में सात लोगों की मौत हो गई। यह सभी लोग मुख्य रूप से शिया हजारा पर निकले थे। यह सभी अल्पसंख्यक राजनीतिक नेता की याद में इकट्ठा हुए थे। यह आत्मघाती हमला भी इन्हीं लोगों को नुकसान पहुंचाने के लिए किया गया था। 

इस हमले में एक पुलिसकर्मी समेत सात लोगों की मौत हो गई। वहीं घटना में सात लोगों के घायल होने की भी खबर है। डिप्टी इंटीरियर मिनिस्ट्री के प्रवक्ता नस्त्रत रहिमी ने बताया की हमलावर का इरादा अब्दुल अली माजारी की मौत की सालगिरह समारोह के लिए एकत्र हुए भीड़ पर हमला करना था। इससे पहले भी 1995 में तालिबानी आतंकी द्वारा एक हजारा के राजनीतिक नेता को मार डाला गया।

इस हमले की जिम्मेदारी आईएसआईएस ने ली है, वहीं घटना को अकेले अंजाम देने पर कई अफगानिस्तानी संस्थाओं को शक है कि यह काम आईएसआईएस ने अकेले अंजाम दिया है। बता दें कि दिसंबर में भी एक दर्जन लोग एक आत्मघाती हमले का शिकार हुए थे, जिन्होंने उस हमले में अपनी जान गंवाई थी। वो हमला भी शिया हजारा के एक कार्यक्रम में किया गया था। हमले के पीछे भी इस्लामिक स्टेट आईएसआईएस का हाथ था। उसी दौरान दो मस्जिदों को भी निशाना बनाया गया था। जिसमें 72 लोग मारे गए थे।  

बता दें कि यह हमला तब किया गया है जब दो हफ्ते पहले ही राष्ट्रपति अशरफ घानी ने शांति वार्ता के लिए तालिबान को वार्ता के लिए बुलाया है। 16 साल तक चले गृह युद्ध के बाद किसी राष्ट्रपति का यह बड़ा प्रस्ताव समझा जा रहा है। 

loading...