पद्मावत’ के खिलाफ MP और राजस्थान सरकार, SC में दाखिल की पुनर्विचार याचिका

 पद्मावत’ के खिलाफ MP और राजस्थान सरकार, SC में दाखिल की पुनर्विचार याचिका

‘पद्मावत’ फिल्म पर 4 राज्यों के बैन को हटाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ राजस्थान और मध्य प्रदेश सरकारें न्यायालय के दरवाजे पर पहुंच गईं. सुप्रीम कोर्ट इन 2 सरकारों की याचिका पर मंगलवार को सुनवाई करेगा. बीजेपी शासित राजस्थान और मध्य प्रदेश राज्य ने सुप्रीम कोर्ट का रुख करते हुए विवादित फिल्म पद्मावत को पूरे देश में प्रदर्शित किए जाने के इसके फैसले में बदलाव की मांग की है. यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट के बैन हटाने के बावजूद गुजरात में पद्मावत रिलीज नहीं, डर बना कारण

सुप्रीम कोर्ट ने 25 जनवरी प्रदर्शित होने वाले फिल्म पद्मावत के खिलाफ दायर याचिका पर मंगलवार को सुनवायी करने को मंजूरी दी है. शीर्ष अदालत ने 18 जनवरी को ‘पद्मावत’ की 25 जनवरी को देशभर में रिलीज का रास्ता साफ कर दिया था. शीर्ष अदालत ने गुजरात और राजस्थान में इस विवादित फिल्म के प्रदर्शन पर लगी रोक हटा दी थी. शीर्ष अदालत ने अन्य राज्यों पर फिल्म के प्रदर्शन पर पाबंदी लगाने की इस तरह की अधिसूचना या आदेश जारी करने पर रोक लगा दी थी. यह भी पढ़ें: SC का पद्मावत पर रोक से फिर इनकार, कहा- सुरक्षा देना राज्‍य की जिम्‍मेदारी, हमारी नहीं

इस फिल्म की कहानी 13वीं सदी में महाराजा रतन सिंह एवं मेवाड़ की उनकी सेना और दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी के बीच हुए ऐतिहासिक युद्ध पर आधारित है. शीर्ष अदालत ने दीपिका पादुकोण, शाहिद कपूर और रणबीर सिंह अभिनीत फिल्म की रिलीज को मंजूरी दी और राजस्थान और गुजरात सरकारों द्वारा इस फिल्म के प्रदर्शन पर पाबंदी के लिए जारी आदेश और अधिसूचना पर रोक लगाई थी. 

वहीं, सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी सिनेमाघरों में खतरे की आशंका को देखते हुए गुजरात में कुछ मल्टीप्लेक्स और सिंगल स्क्रीन सिनेमाघर हिंसा के डर से संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘‘पद्मावत’’ को नहीं दिखाएंगे. वाइड एंगल मल्टीप्लेक्स के मालिक ने बताया कि वह तब तक फिल्म नहीं दिखाएंगे जब तक राजपूत समुदाय के नेताओं और फिल्म प्रोड्यूसरों के बीच विवाद सुलझ नहीं जाता. वाइड एंगल मल्टीप्लेक्स के अहमदाबाद शहर और मेहसाणा में थिएटर हैं. राज्य के कई हिस्सों में फिल्म के खिलाफ प्रदर्शन जारी है लेकिन राजकोट के मल्टीप्लेक्स मालिकों के संघ ने कहा कि वे फिल्म नहीं दिखाएंगे.

रविवार, 21 जनवरी को ‘पद्मावत’ की रिलीज को लेकर विरोध कर रहे करणी सेना और अन्य राजपूत संगठनों के सदस्यों ने नोएडा के डीएनडी फ्लाईओवर के टोल प्लाजा के काउंटरों पर तोड़-फोड़ की और एक बैरियर को आग के हवाले कर दिया. नगर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार सिंह ने बताया कि डीएनडी टोल फ्री है, इसलिए काउंटरों पर कोई काम नहीं हो रहा था. केवल उनकी कांच की खिड़कियों और कंप्यूटरों को तोड़ा गया. 

अधिकारी ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज खंगालने के बाद करीब एक दर्जन प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया और मामला दर्ज किया गया. उन्होंने बताया कि गौतम बुद्ध नगर, गाजियाबाद, बुलंदशहर, हापुड़ और आस पास के इलाकों से आए ये प्रदर्शनकारी करणी सेना, राजपूत उत्थान समिति, क्षत्रीय सभा के सदस्य हैं.

loading...