लालू यादव के दो सेवक फर्जी मारपीट का मामला दर्ज करवाकर जेल पहुंचे

 लालू की सेवा के लिए दो सेवक भी पहुंचे जेल, खुद किया सरेंडर

चारा घोटाले के एक मामले में शनिवार को राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की रांची स्थित विशेष अदालत द्वारा साढ़े तीन साल की सजा सुनाई. लालू इस समय रांची की बिरसा मुंडा जेल में है. इस बीच खबर आ रही है कि लालू प्रसाद यादव की सेवा के लिए दो सेवक फर्जी केस बनाकर जेल चले गए हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार लालू के इन दो सेवकों ने लालू को मिलने वाली सजा से 2 घंटे पहले खुद पर केस दर्ज करवाकर सीजेएम कोर्ट में सरेंडर कर दिया था.

लालू के एक सेवक का नाम लक्ष्मण कुमार और दुसरे का मदन यादव है. लक्ष्मण लालू यादव का रसोईया है जबकि मदन यादव लालू का खास सेवक माना जाता है. खबरों की माने तो दोनों सेवक खुद को मारपीट के फर्जी केस में फंसाकर जेल पहुंचे हैं. दोनों के खिलाफ रांची के लोअर बाजार थाने में धारा 341, 323, 504, 379, 34 के तहत केस दर्ज किया गया और बकायदा दोनों को जेल में डाला गया.

लक्ष्मण आरजेडी अध्यक्ष का पुराना रसोइया है. वह लालू यादव के लिए पटना से दिल्ली तक में व खाना बनता रहा है. लालू यादव के करीबी लक्ष्मण को भी जानते हैं.

मदन यादव रांची का रहने वाला है और आरजेडी अध्यक्ष का करीबी माना जाता है. ख़बरों के अनुसार बिरसा मुंडा जेल में बंद रहने के दौरान उनकी सेवा के लिए जेल गया था.

जेलप्रशासन अभी तय नहीं कर पाया है कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को क्या काम दिया जाए. वहीं लालू से दो घंटे पहले ही उनकी सेवा के लिए उनका रसोइया लक्ष्मण कुमार और सेवक मदन यादव अपने खिलाफ केस दर्ज करवाकर जेल पहुंच गए.

loading...