'पद्मावत' की मुश्किलें जारी, हरियाणा में भी बैन

 अब हरियाणा में भी रिलीज नहीं होगी ‘पद्मावत’, राज्य सरकार ने लगाया बैन

संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश के बाद अब ये फिल्म हरियाणा में भी बैन हो गई है. मंगलवार को हरियाणा कैबिनेट की मीटिंग में ये फैसला हुआ. काफी मुश्किलों के बाद सेंसर बोर्ड से हरी झंडी मिलने के बाद ‘पद्मावत’ 25 जनवरी को देशभर में रिलीज हो रही है.

फिल्म पर बैन को लेकर हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने कहा, कैबिनेट मीटिंग में तय हुआ कि कानून व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए इसे राज्य में बैन किया जाना चाहिए. कैबिनेट में इस फैसले पर सहमति बनी. इसी के साथ हमने हरियाणा में भंसाली की फिल्म को बैन का निर्णय लिया है.

बता दें कि पद्मावत में शाहिद कपूर व रणवीर सिंह प्रमुख भूमिकाओं में हैं. संजय लीला भंसाली के निर्देशन में बनी फिल्म के निर्माताओं ने निम्नलिखित बिंदुओं को स्पष्ट किया है. फिल्म महाकाव्य ‘पद्मावत’ पर आधारित है, जिसकी रचना सूफी कवि मलिक मोहम्मद जायसी ने की थी, जो कल्पना पर आधारित है.

फिल्म में अलाउद्दीन खिलजी व रानी पद्मावती के बीच कोई दृश्य नहीं फिल्माया गया है. हमने यह फिल्म राजपूतों की वीरता, विरासत व साहस की प्रसिद्धि के लिए बनाई है.

फिल्म रानी पद्मावती को पूरे सम्मान के साथ प्रदर्शित करती है और किसी भी तरीके से उनके चरित्र या उनकी छवि को धूमिल नहीं करती है. फिल्म को सीबीएफसी द्वारा सिर्फ पांच संशोधनों के साथ मंजूरी दी गई और इसे भारत में यू/ए प्रमाण-पत्र के साथ आधिकारिक रूप से स्वीकृति दी गई है.

loading...