चारा घोटाला : लालू प्रसाद यादव ने कोर्ट से कम सजा की देने की अपील की, जेल के बाहर समर्थक जुटे

 लालू प्रसाद के वकील ने दाखिल की एक और याचिका, सजा कम कराने के लिए दिया ये तर्क

बिहार के चारा घोटाला से जुड़े देवघर ट्रेजरी मामले में शुक्रवार को लालू प्रसाद यादव समेत 16 दोषियों को सजा सुनाई जाएगी। सजा सुनाए जाने के पहले लालू ने कोर्ट से कम सजा देने की गुहार लगाई है। उन्होंने कहा- "इस घोटाले में मेरा सीधा रोल नहीं था। मेरी उम्र और हेल्थ को देखते हुए कम सजा दी जाए।" पांच आरोपियों की सजा पर गुरुवार को सुनवाई हो चुकी है। इस दौरान लालू समेत सभी आरोपी कोर्ट में मौजूद थे। तब लालू ने जज के सामने जेल की दिक्कतें गिनाईं थीं। लालू ने कहा था- साहब वहां ठंड बहुत लगती है। इस पर जज ने कहा था- ठंड लगती है तो जेल में हारमोनियम, तबला बजाइए और मस्त रहिए। यह भी पढ़ें: जेल में ठंड लगती है साहब : लालू; जज बोले- तबला बजाइये

सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह ने सुनवाई के दौरान लालू से कहा-आपके कई शुभचिंतक फोन कर रहे हैं, लेकिन मैं सिर्फ कानून का पालन करूंगा।सीबीआई के वकील ने आरोपियों को चार से सात साल तक की सजा देने की गुजारिश की। कहा- ऐसा होने से समाज में मैसेज जाएगा कि सरकारी खजाने को लूटने पर कड़ी सजा दी जाती है। इन्होंने बेदर्दी से सरकारी खजाने की लूट की है। अगर अलॉटमेंट 100 रु. का होता था, तो ये लोग 40 से 50 लाख तक की निकासी कर लेते थे। अपराध के तरीके और गंभीरता को देखते हुए रियायत की गुंजाइश नहीं है। वहीं, आरोपियों के वकील ने अपने क्लाइंट की बीमारी का हवाला देते हुए कहा कि उन्हें कम से कम सजा दी जानी चाहिए।

बता दें कि रांची ‌‌स्थित सीबीआई की विशेष अदालत के जज शिवपाल सिंह चारा घोटाले की सुनवाई कर रहे हैं। बता दें कि बीते 23 दिसंबर को लालू यादव समेत 16 आरोपियों को देवघर कोषागार से अवैध रूप से फंड निकालने के मामले में दोषी करार दिया गया था।

कोर्ट ने सजा के लिए 3 जनवरी की तारीख मुकर्रर की ‌थी। लेकिन सजा पर फैसला नहीं हो सका। अब शुक्रवार को कोर्ट इस मामले में फैसला सुनाएगी।

loading...