जापान का ये सच जानकर फटी की फटी रह जाएंगी आपकी आंखें

 यहां प्रेग्नेंट होने से पहले महिलाओं को अपने बॉस से लेनी होती है इजाजत

मां बनना प्रत्येक वूमन के लिए जीवन का सबसे सुखद एहसास होता है. समाज में अगर कोई महिला गर्भवती न हो तो उसे अलग नजर से देखा जाता है. समाज में महिलाओं पर तमाम तरह की पाबंदी लगा रखी हैं और इस रेस में जापान एक कदम और आगे बढ़ गया है. जापान की कम्पनियों ने महिला कर्मचारियों को निर्देश दिया है कि वे प्रेगनेंट होने से पहले बॉस की आज्ञा लें.

निर्देश के मुताबिक, महिला कर्मचारियों को शादी करने या प्रेग्नेंट होने से पहले कम्पनी की अनुमति लेनी होगी. यह मामला तब सामने आया जब नर्सरी में काम करने वाली एक वूमन कर्मचारी के पति ने इस बात का खुलासा किया कि उसकी पत्नी को उसका बॉस इसलिए ताने दे रहा है, क्योंकि वह प्रेगनेंट हो गई. इतना ही नहीं उस महिला कर्मचारी को प्रेग्नेंट होने की वजह से अपने बॉस से क्षमा भी मांगनी पड़ी.

महिला के पति ने जिस चाइल्ड केयर सेंटर में उसकी पत्नी काम करती है वहां के और कर्मचारियों के साथ हो रहे बुरे बर्ताव के बारे में भी कई जानकारी दी हैं. उसने बताया कि उसकी पत्नी काम करती है वहां के सभी कर्मचारियों को ये तुगलकी फरमान दे रखा है कि, किसी भी कर्मचारी को शादी करने और प्रेगनेंट होने से पहले आज्ञा लेनी होगी.

कंपनी के नियम के अनुसार वरिष्ठता के हिसाब से यह तय किया जाता है कि कौन सा कर्मचारी पहले शादी करेगा. इस बात का खुलासा करने वाले शख्स ने बताया कि मुझे और मेरी पत्नी को इसके लिए क्षमा मांगनी पड़ी कि बिना मंजूरी के वो गर्भवती हो गई. डायरेक्टर ने बहुत गुस्सा करने के बाद हमारी माफी मानी, मगर उसके अगले दिन से ही वह मेरी पत्नी को ताने दे रहा है.

इस मामले के सामने आने के बाद और भी कई वूमन ओं ने आपबीती सुनाई. 26 वर्ष की, जोकि टोक्यो की एक कॉस्मेटिक्स कंपनी में काम करती है. जोकि और उसके साथ कार्य करने वाली बाकी 22 महिला कर्मचारियों को कंपनी को ई-मेल भेजकर अपनी शादी और गर्भवती होने की जानकारी देनी पड़ी, लेकिन बात सिर्फ इतनी ही नहीं है. आपको यह जानकर हैरानी होगी कि जानकारी देने के बाद इस वूमन कर्मचारी को सुपरवाइजर ने कहा कि वह 35 वर्ष तक गर्भवती होने का इंतजार करें.

loading...