जेल में लालू को नहीं मिलेगी VIP ट्रीटमेंट, हफ्ते में सिर्फ तीन लोग ही कर सकते हैं मुलाकात

 सप्ताह में सिर्फ तीन लोगों से मिल सकते हैं लालू, लेकिन ट्विटर पर जारी रहेगी बातचीत

चारा घोटाले में दोषी ठहराए जा चुके बिहार के पूर्व सीएम लालू प्रसाद से जेल में हर हफ्ते सिर्फ 3 लोग ही मुलाकात कर सकेंगे। सोमवार को बिहार से आए 5 RJD नेताओं ने लालू से मुलाकात के बाद ये बात बताई। इस बात की जेल सुपरिटेंडेंट ने भी पुष्टि की है। लालू यहां के होटवार जेल में बंद हैं। उन्हें चारा घोटाले के एक देवघर केस में दोषी ठहराया गया है। सजा का एलान का 3 जनवरी को होगा।

सोमवार को RJD के कई नेता और कार्यकर्ता लालू प्रसाद से मिलने जेल पहुंचे। इनमें झारखंड सरकार की पूर्व मंत्री अन्न्पूर्णा देवी, लालू प्रसाद के वकील प्रभात कुमार, RJD नेता अवध बिहारी, भाेला प्रसाद और रणविजय सिंह शामिल थे। इनसे मिलने के लिए लालू को जेल के मुलाकात वाले कमरे में लाया गया। जेलर एके. चौधरी ने बताया कि जेल मैनुअल के मुताबिक, एक हफ्ते में अब तीन लोग ही लालू प्रसाद यादव से मुलाकात कर सकेंगे।

जेल से मिलकर लौटने के बाद पूर्व मंत्री अन्नपूर्णा देवी ने कहा, "सरकार ऐसे बर्ताव कर रही है कि जैसे लालू कोई जननेता नहीं, बल्कि उग्रवादी हों। राज्य सरकार का यह बेहद गलत रवैया है। " पूर्व मंत्री ने जेल प्रशासन से लालू के परिजनों को मुलाकात की इजाजत देने की मांग की।

RJD नेता भोला प्रसाद ने मुलाकात के बाद कहा, "जेल परिसर को छावनी में बदल दिया गया है। क्या वे कोई उग्रवादी हैं? जननेता से लोगों के मिलने में पाबंदी लगा दी गई है। पार्टी कार्यकर्ताओं में रोष है। हालांकि लालू जी ने संयम बरतने का निर्देश दिया है। झारखंड के मुख्यमंत्री से आग्रह है कि लालू से लोगों को मिलने के लिए विशेष व्यवस्था की जाए।” अन्नपूर्णा देवी ने कहा कि मिलने का समय 8 बजे का था। दो घंटे इंतजार के बाद 10 बजे अंदर बुलाया गया।"

जेल सुपरिटेंडेंट अशोक कुमार चौधरी के मुताबिक, जेल मैनुअल के मुताबिक किसी कैदी से हफ्ते में तीन लोग ही मिल सकते हैं। इनमें उनके परिजन या नजदीकी हो सकते हैं। यह व्यवस्था लालू प्रसाद के लिए लागू नहीं की गई है। ये नियम पहले से ही लागू है।

loading...