इस गलती की वजह से चेन्नई से हारी सनराइजर्स हैदराबाद

 इस गलती की वजह से चेन्नई से हारी सनराइजर्स हैदराबाद

आईपीएल-11 के पहले क्वालिफायर में चेन्नई सुपरकिंग्स ने सनराइजर्स हैदराबाद को हराकर फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है. लेकिन, क्या आप जानते हैं कि वानखेड़े पर चेन्नई को रोमांचक जीत कैसे मिली. वो भी तब जब पूरे मुकाबले के दौरान मैच सनराइजर्स की मुट्ठी में दिख रहा था. तो इसके पीछे वजह है सनराइजर्स के कप्तान का एक गलत फैसला, जिसकी वजह से चेन्नई ने ये मुकाबला जीत लिया था. 

सनराइजर्स को अपने कप्तान केन विलियम्सन के इस गलत फैसले के कारण मैच हारना पड़ा. दरअसल, CSK को जीत के लिए आखिरी के 3 ओवरों में जीत के लिए 43 रन चाहिए थे. ऐसे में हैदराबाद के कप्तान केन विलियम्सन ने पारी का 18वां ओवर कार्लोस ब्रेथवेट को दिया तब जबकि डेथ ओवर स्पेशलिस्ट भुवनेश्वर कुमार और सिदार्थ कौल के 1-1 ओवर बचे थे और यही पूरे मैच में शानदार कप्तानी करने वाले विलियम्सन की बड़ी चूक साबित हुई. विलियम्सन को जहां अपने नंबर वन गेंदबाज भुवी को लगाकर चेन्नई पर दबाव बनाना चाहिए था वहां उन्होंने ब्रेथवेट को गेंद थमाकर CSK को 18वें ओवर में 20 रन दे दिए. जिसके बाद बाकी के 2 ओवरों में चेन्नई को जीत के लिए 23 रन बनाने रह गए और उन पर से सारा दबाव खत्म हो गया. इसके बाद तो CSK ने 19वें ओवर में 17 रन बनाए और फिर 20वें ओवर की पहली गेंद पर छक्का लगारकर यह मैच जीत लिया.

वैसे इस सीजन में 3 ओवर में 43 रन बनाने का कमाल चेन्नई ने वानखेड़े स्टेडियम पर दूसरी बार किया है. इससे पहले 7 अप्रैल को मुंबई इंडियंस के खिलाफ खेले IPL-11 के पहले मैच में भी चेन्नई को जीत के लिए आखिरी की 18 गेंदों पर 43 रन ही चाहिए और चेन्नई ने वो मुकाबला जीता था.

loading...